Tours & Travels

नज़ाकत भरे फैशन के साथ करें ‘केरल का सफर’ – the fashion of kerala

The fragility of the fashion kerala tourism in hindi: जो लोग दुनिया भर की सैर करने के दिवानें है, उनके लिए केरल का सफर बेहद यादगार होगा. हो न हो पर केरल आने पर ही आप इस जगह की खूबसूरती को बेखूबी तरीके से समझ पाएंगें.

“ठहर जाओ! घड़ी भर और तुम को देख ले आँखे,
ठहर जाओ! दो पल और तुम को जी लें जिंदगी….
ठहर जाओ! दो लम्हें और तुम को बांहों में भरकर मदहोश हो जाऊं मैं…
ठहर जाओ!, ठहर जाओ!, ठहर जाओ! “

यहां जाने के बाद आप अपने होंठों पर यह चंद लाईन गुनगुनाएं बिना नही रह पाएंगें. बता दें, केरला में समंदर का जो दृश्य है वह शायद ही हिंदुस्तान के किसी कोने में हो. हरियाली ऐसी कि हिमाचल के पहाड़ों को भी मात दे जाएं. वैसे यहां के लोग भले ही हिंदी कम समझें पर उनकी मेहमाननवाज़ी यह अहसास नहीं होने देगी कि आप घर से बाहर हैं. हो ना हो विदेशों की सैर का अनुभव भी केरला में बिताएं यादगार लम्हों के सामने फीका पड़ जाएगें.

नज़ाकत भरे फैशन के साथ करें ‘केरल का सफर’

पर्यटन के प्रति बढ़ते क्रेज को देखते हुए सैलानियों को भाग-दौड़ भरी ज़िदगी और शहरीकरण के शोर-शराबे की जगह पर केरल की शांति, सादगी और खूबसूरती बेहद पसंद आएगी. जहां बाकी राज्य केरल के तटों और यहां मिलने वाले केले से बने चिप्स के दिवाने हैं. तो वहीं, विशेषकर महिलाओं को यहां पर आकर सबसे ज्यादा उत्सुकता होती है शॉपिंग करने की. वैसे, केरल में पाँच अलग तरह के डिज़ाइन्स और फैशन है जो हमेशा ट्रेंड में रहते है. ऐसे में जाहिर सी बात है कि आप केरला जाएं और वहां के फैशन को अपनी वार्डरोब में ज़रूर शामिल करें. दरअसल हर राज्य के ड्रेंसिग में एक खास नजाकत होती है. जिसे पहनकर ना सिर्फ मल्लू लोगों को बल्कि हर इंडियन को गर्व महसूस होता है.

The fragility of the fashion kerala tourism in hindi

कसवहू साड़ी

“कसवहू साड़ी” केरला साड़ी के नाम से मशहूर है. बता दें,कसवहू अपनी शानदार कॉटन बेस और अलग तरह की ड्रेपिंग स्टाइल के लिए जानी जाती है. आमतौर पर व्हाइट कॉटन की बारीक बुनाई करके तैयार की जाने वाली इस साड़ी के बॉर्डर पर गोल्डेन का बेहद खूबसूरती से इस्तेमाल होता है. पहले ये साड़ी, केरल की शादियों और फेस्टिवल तक ही सीमित थी. परंतु, बदलते दौर और फैशन स्टाइल के साथ-साथ हर राज्य की औरतें इस साड़ी को पहनना पंसद कर रही है. वहीं, अब डिज़ाइनर्स भी “कसवहू साड़ी” को कई नए रूप में पेश कर रहे हैं. वहीं, इस साड़ी पर गोल्डन वर्क से जो साड़ी का लुक आता है उससे बॉलीवुड भी अछूता नहीं रहा है और कई सेलिब्रिटीज़ इन साड़ियों को पहनकर अपनी खूबसूरती में चार चाँद लगा चुकी है.

kerla saree fashion

पट्ट पावाडई

वहीं, केरल की औरतों के हर रोज़ के पहनावे को पट्ट पावाडई कहा जाता है. पावाडई को ड्रेस-अप करने का तरीका डिपेंड करता है कि आप किस फंक्शन के लिए तैयार हो रही हैं. इसे पहनने के बाद ऐसा लुक मिलता है जैसे आपने एंकल-लेंथ स्कर्ट और कुर्ती पहनी हो. वैसे, केरल की औरतें ज़्यादातर हेमलाइन पर सिंपल बॉर्डर वाली पट्ट पावाडई को डेलीवेयर के रूप में पहनना पसंद करती हैं.

fashion of kerla

नागपट्टम माला

केरल के बेहतरीन और सबसे पुराने गहनों में से “नागपट्टम माला” एक है. इसकी सबसे बड़ी खासियत इन गहनों में इस्तेमाल होने वाले ग्लास स्टोन्स, जो कि इस राज्य की भव्य परंपरा की निशानी है. वहीं, कई शानदार रंगों से बने ये स्टोन्स कई गहने जैसे नेकलेस, पेंडेंट और इयररिंग्स में जड़ कर इसको बेशकीमती बना देते है. वैसे तो नागपट्टम माला की बेस गोल्ड से ही बनी हुई होती है. दरअसल, नागपट्टम माला मलायलम की कहानियों से आई है.

the-fashion-of-kerala-3

बांस से बने हुए गहने

केरल की शानदार प्राकृतिक खज़ानों में से एक है बांस. वैसे तो, केरल के लोग बांस को कई कामों में इस्तेमाल करते हैं. इन में से एक है बांस से बने हुए लाज़वाब गहने. इन गहनों के लिए पहले बांस की लकड़ियों को काट लेते हैं और फिर आग में सेकर कर इसे अलग-अलग रंग दिए जाते हैं. इसके बाद इन रंगीन लकड़ियों की मदद से इन बांसों को कई खूबसूरत नेकलेस और इयररिंग्स में तराशा जाता है.

the-fashion-of-kerala-2

कासू माला

केरल की भव्य परंपरा की निशानी है – कासू माला. कासू माला का मतलब होता है ‘coin necklace’. केरल की दुहल्न के गहनों मे से एक खास गहना है गोल्ड से बनी कासू माला. सिक्के की तरह दिखने वाले पेंडेंट के रूप में इसे तैयार किया जाता है, जो एक-दूसरे से गोल्ड नेकलेस में बांधे रहते हैं. हालांकि, इन सिक्कों के साइज़ अलग-अलग हो सकते हैं, पर साइज़ चाहे जो भी है ये एक-दूसरे के काफी पास-पास बांधे होते हैं.

the fashion of kerala

वहीं, अगर आप भी केरल में जाने के बारें में सोच रही है, तो इस बात को ध्यान में रख लें कि वहां जाकर आपको किन किन चीज़ों की शापिंग करनी है. ताकि आपका वार्डरोब पहले से भी ज्यादा डिजाइनर और ट्रेंडी नज़र आए. ताकि जब आप वहां से वापिस आएं तो दोस्तों के बीच आप दिखें कुछ नज़ाकत से भरे और जरा हटके!