health tips

जंक फूड स्वास्थ्य के लिए नुकसानदायक कैसे और क्यों है | harmful effects of eating junk food in hindi

harmful effects of eating junk food in hindi : जंक फ़ूड एक लत बन गयी है जिसमे हमारे देश के बच्चे और युवा फंसते जा रहे है। सभी जानते हैं कि जंक फ़ूड हमारे स्वास्थ्य के लिए बेहद हानिकारक है फिर भी सभी खाते हैं क्योकि ये चीजे खाने में बेहद स्वादिष्ट और देखने में बेहतरीन होते है जिस वजह से सभी इसकी और खिचे चले जाते है। टीवी पर आ रही विज्ञापनों से भी सभी इन चीजो की तरफ ज्यादा आकर्षित होते है खासकर बच्चे।

इन जंक फ़ूड को बनाने में वो बहुत सारी चीजो का इस्तेमाल करते है जैसे कई तरह की सॉस और चटनियाँ और ढ़ेर सारा चीज़ जिससे डिश खाने में बेहद स्वादिष्ट हो जाती है जिस वजह से सभी इसकी और खिचे चले जाते है। आपने बर्गर के बारे में तो सुना होगा। आप जानते है बर्गर मैं बहु ज्यादा कैलोरीज होती है जिसको खाने में तो बड़ा मजा आता है लेकिन हमारे पेट के लिए इतनी कैलोरीज पचा पाना मुश्किल होता है।

आखरी जंक फ़ूड होता क्या है ? – What is junk food?

जंक फ़ूड अर्थात वो फ़ूड जिसको आकर्षक बनाने में ऐसी कई चीजो और रसायनों का प्रयोग होता है जो हमारी सेहत के लिए हानिकारक होते है। इन चीजो में शामिल है बर्गर, पिज़्ज़ा, आलू चिप्स, कोल्ड ड्रिंक्स, केक, पेन केक्स, रेडी मेड जूस आदि। इन जंक फ़ूड को खाने में हमे क्या क्या नुक्सान भुगतने पढ़ सके है आइये उनके बारे में जाने है-

जंक फ़ूड से क्या क्या नुक्सान होते है ? What is the harm to junk food?

मधुमेह (diabetes)

कुछ सालो पहले शुगर की बीमारी सिर्फ बड़े बुजुर्गो को हुआ करती थी लेकिन आजकल बच्चे और युवावर्ग भी मधुमेह के शिकार हो रहे है। मधुमेह होने का सबसे बड़ा कारण होता है गलत खान पान। वो लोग इस बीमारी के ज्यादा शिकार होते है जो जंक फ़ूड ज्यादा खाते है। जिन बच्चो को छोटी उम्र में ही शुगर हो जाता है वो जिंदगी भर इस बीमारी का बोझ झेलते है।

इतना ही नही शुगर हो जाने की वजह से वो दूसरी कई बीमारियों का शिकार हो जाते है। इसलिए मधुमेह से दूर रहना है तो जंक फ़ूड से दूर रहना होगा।

मोटापा (obesity)

obesity from junk food in hindi

सबसे बड़ा और महत्वपूर्ण नुक्सान है वजन का बढ़ना। जो लोग बहुत ज्यादा जंक फ़ूड खाने के आदि है उनका वजन बहुत तेजी से बढ़ता है क्योकि जंक फ़ूड में कैलोरीज बहुत ज्यादा होती है।
इतनी सारी कैलोरीज लेने की वजह से वजन बढता जाता है और इतना वजह बढ़ना हृदय के लिए नुकसानदायक होता है। वजन बढ़ने से आपके जोड़ो में दर्द शुरू हो सकता है और भी कई तरह की बीमारियाँ लग जाती है। सभी जानते है जंक फ़ूड से वजन बढता है फिर भी खाते है क्योकि ये स्वाद के मामले में लाजवाब होते है।ये इतने टेस्टी होते है कि लोग खासकर युवा और बच्चे पेट भरने के बाद भी खाते जाते है। इस चीज का शिकार ज्यादातर वो बच्चे होते है जो दूसरे शहरों में पढने या नौकरी के लिए जाते है।

दिल की बीमारी (heart disease)

दिल की बीमारी के प्रमुख कारणों में से एक है सोडियम का अधिक मात्रा में सेवन। बहुत सारे जंक फ़ूड जैसे पिज़्ज़ा, फ्रेंच फ्राइस और आलू के चिप्स आदि में सोडियम की मात्रा ज्यादा होती है। शरीर में ज्यादा सोडियम जाने की वजह से दिल की बीमारियाँ जैसे उच्च रक्तचाप और हार्ट अटैक जैसी खतरनाक परेशानियाँ होने का डर बना रहता है। डॉक्टर के अनुसार अगर कोई व्यक्ति एक दिन में 500 मिलीग्राम सोडियम वाली चीजे खाता है तो उसको स्ट्रोक होने का खतरा 17 परसेंट तक बढ़ जाता है। इसलिए बच्चो को आलू के चिप्स से दूर रखे। अगर उन्हें बहत पसंद है तो घर पर बनाकर दे या वो चिप्स दे जिसमे सोडियम कम हो और रोज में न दे। हफ्ते में एक या दो बार बस, इससे ज्यादा उनको आलू के चिप्स न खाने दे।

दांतों की बीमारियाँ लगना (Tooth problem)

शायद आप जानते होगे कि जितने भी जंक फ़ूड होते है उनको बनाने में चीनी का इस्तेमाल होता है। कुछ जंक फ़ूड जैसे केक, पेस्ट्री, चॉकलेट्स, कोल्ड ड्रिंक्स आदि में चीनी का अधिक प्रयोग होता है। जो लोग जंक फ़ूड का ज्यादा इस्तेमाल करते है उन्हें उम्र से पहले ही दांतों की बीमारियाँ लग जाती है जैसे दांतों का सड़ना, दांतों का पीलापन, मसुडो का फूलना, जीभ से सम्बंधित बीमारियाँ। आपने देखा होगा आजकल छोटे बच्चो के दांत सड़ने लगे है। छोटी उम्र ही ही उनके मसुडो से खून आने लगा है और दांत कमजोर हो जाते है। ये सभी परेशानियाँ जंक फ़ूड की देन है।

विटामिन की कमी (vitamin deficiency)

आजकल के बच्चे और युवा सब्जियां न खाकर इन जंक फ़ूड पर निर्भर है। वो लोग पोषक भरी चीजे न खाकर स्वादिष्ट जंक फ़ूड ज्यादा खाते है। जंक फ़ूड में शरीर के लिए जरुरी विटामिन्स और मिनरल्स नही होते जिस वजह से उनके शरीर में आवश्यक विटामिन्स और मिनरल्स की अत्यधिक कमी हो जाती है जिसको पूरा करने के लिए उन्हें दवाइयों पर निर्भर होना पड़ता है। इतना ही नही जरुरी पोषक तत्वों की कमी की वजह से वो गंभीर बीमारियों की चपेट में आ जाते है।

ऊपर बताई गई बीमारियों के अलावा जो लोग जंक फ़ूड ज्यादा खाते है उनको स्ट्रेस, दिमागी कमजोरी, कमजोर हड्डियाँ जैसी कई बीमारियों हो जाती है। सबसे बढ़ा खतरा होता है गर्भवती स्त्रियों को। जो गर्भवती स्त्रियाँ ज्यादा जंक फ़ूड खाती है उनके बच्चो का विकास ठीक तरह से नही होता और उनके बच्चो का दिमाग कमजोर रह जाता है।

जब भी कोई जंक फ़ूड ख़रीदे उन पर लिखी जानकारी को ध्यान से पड़े। अगर किसी चीज को बनाने में कई तरह की चीनी का इस्तेमाल हुआ है और कृतिम रंग और कृतिम मिठास का प्रयोग हुआ है तो वो न खाए। जिन खाद्य सामग्री में फाइबर, साबुत अनाज, विटामिन्स, मिनरल्स, कैल्शियम की सही मात्रा हो वो ही खाए। जितना हो सके घर पर बने जूस का सेवन करे और घर पर भी बनाते वक्त चीनी का कम प्रयोग करे।

आइये जाने है कौन कौन से जंक फ़ूड में कितनी कलोरी होती है-

चीज : 371
पिज़्ज़ा : 266
चॉकलेट : 119
फ्रेंच फ्राइज : 312
चिप्स : 312
ब्रेड : 265
बर्गर : 295
कोल्ड ड्रिंक : 140
समोसा : 308

junk food kya hai aur iske nukshan hindi

अब इन मैं से कोई भी चीज खाने से पहले इसमें मौजूद कैलोरी के बारे में याद रखे ताकि आपको इस चीजो का सेवन न करे और इनसे होने वाले नुकसानों से बच सके। वैसे भी भारतीय घर का खाना बेहद स्वादिष्ट और पोषक तत्वों से भरपूर होता है जिसके सेवन से हमारे शरीर को ताकत भी मिलती है और हम बीमारियों से भी बचे रहते है। आज से प्रण ले, ज्यादा से ज्यादा हरी सब्जियां और घर का खाना खाएंगे और जंक फ़ूड या तो नही खाएंगे और अगर खाएंगे तो हफ्ते में सिर्फ एक बार खाएंगे।