Quotes

श्रीमद् भागवत गीता अनमोल विचार | Best Bhagavad Gita Quotes in Hindi

    —#1—
  • परिवर्तन परिवर्तन ही संसार का नियम है. एक पल में हम करोड़ों के मालिक हो जाते है और दुसरे पल ही हमें लगता लगता है की हमारे आप कुछ भी नहीं है.
  • —#2—
  • आत्मा को शास्त्र नहीं काट सकते , अग्नि नहीं जला सकती , जल नहीं गाला सकता , वायु नहीं सूखा सकती.
  • —#3—
  • Hell has three hates: lust, anger and greed.
    नरक तिन चीजों से नफरत करता है: वासना, क्रोध और लोभ।
  • —#4—
  • Perform all work carefully, guided by compassion.
    सभी काम धयान से करो, करुणा द्वारा निर्देशित किये हुए।
  • —#5—
  • Neither in this world nor elsewhere is there any happiness in store for him who always doubts.
    सदैव संदेह करने वाले व्यक्ति के लिए प्रसन्नता ना इस लोक में है ना ही कहीं और.
  • —#6—
  • Who do not control the mind, For them he acts like enemy.
    जो मन को नियंत्रित नहीं करते उनके लिए वह शत्रु के सामान कार्य करता है ।
  • —#7—
  • The person can become whatever, if he reflects on the desired object with confidence
    व्यक्ति जो चाहे बन सकता है यदि वह विश्वास के साथ इच्छित वस्तु पर चिंतन करें ।
  • —#8—
  • Perform all work carefully, guided by compassion.
    सभी काम धयान से करो, करुणा द्वारा निर्देशित किये हुए।
  • —#9—
  • Man is created by his belief. As he believes, he becomes what he is.
    मनुष्य अपने विश्वास से निर्मित होता है। जैसा वह विश्वास करता है वैसा वह बन जाता है ।
  • —#10—
  • The wise sees knowledge and action as one; they see truly.
    ज्ञानी व्यक्ति ज्ञान और कर्म को एक रूप में देखता है, वही सही मायने में देखता है.
  • —#11—
  • The mind acts like an enemy for those who do not control it.
    जो मन को नियंत्रित नहीं करते उनके लिए वह शत्रु के समान कार्य करता है.
  • —#12—
  • Perform your obligatory duty, because action is indeed better than inaction.
    अपने अनिवार्य कार्य करो, क्योंकि वास्तव में कार्य करना निष्क्रियता से बेहतर है.
  • —#13—
  • Karma does not bind me, because I do not have any desire for karma reward.
    कर्म मुझे बांधता नहीं, क्यूंकि मुझे कर्म के प्रतिफल की कोई इच्छा नहीं ।
  • —#14—
  • Delusion arises from anger. The mind is bewildered by delusion. Reasoning is destroyed when the mind is bewildered. One falls down when reasoning is destroyed.
    क्रोध से भ्रम पैदा होता है. भ्रम से बुद्धि व्यग्र होती है. जब बुद्धि व्यग्र होती है तब तर्क नष्ट हो जाता है. जब तर्क नष्ट होता है तब व्यक्ति का पतन हो जाता है.
  • —#15—
  • Only the fortunate warriors, O Arjuna, get such an opportunity for an unsought war that is like an open door to heaven.
    हे अर्जुन, केवल भाग्यशाली योद्धा ही ऐसा युद्ध लड़ने का अवसर पाते हैं जो स्वर्ग के द्वार के सामान है.
  • —#16—
  • God is in everything as well as above everything.
    भगवान प्रत्येक वस्तु में है और सबके ऊपर भी.
  • —#17—
  • I give the knowledge, to those who are ever united with Me and lovingly adore Me.
    मैं उन्हें ज्ञान देता हूँ जो सदा मुझसे जुड़े रहते हैं और जो मुझसे प्रेम करते हैं.
  • —#18—
  • Much better to do one’s own work even if you have to do it imperfectly than it is to do somebody elses work perfectly.
    किसी और का काम पूर्णता से करने से कहीं अच्छा है कि अपना काम करें, भले ही उसे अपूर्णता से करना पड़े.
  • —#19—
  • A man who turns away from the desire for results, makes his life successful.
    फल की अभिलाषा छोड़कर कर्म करने वाला पुरुष ही अपने जीवन को सफल बनाता है ।
  • —#20—
  • Setting aside all noble deeds, just surrender completely to the will of God. I shall liberate you from all sins. Do not grieve.
    सभी अच्छे काम छोड़ कर बस भगवान में पूर्ण रूप से समर्पित हो जाओ. मैं तुम्हे सभी पापों से मुक्त कर दूंगा. शोक मत करो.
  • —#21—
  • ‘जब वे अपने कार्य में आनंद खोज लेते हैं तब वे पूर्णता प्राप्त करते हैं.’
  • —#22—
  • ‘इस जीवन में ना कुछ खोता है ना व्यर्थ होता है.’
  • —#23—
  • ‘आत्म-ज्ञान की तलवार से काटकर अपने ह्रदय से अज्ञान के संदेह को अलग कर दो. अनुशासित रहो, उठो.’
  • —#24—
  • To the illumined man or woman, a clod of dirt, a stone, and gold are the same.
    प्रबुद्ध व्यक्ति के लिए, गंदगी का ढेर, पत्थर, और सोना सभी समान हैं.
  • —#25—
  • The wise sees knowledge and action as one; they see truly.
    ज्ञानी व्यक्ति ज्ञान और कर्म को एक रूप में देखता है, वही सही मायने में देखता है.